गैंगस्टर आनंदपाल का दुश्मन हुआ करता था राजू ठेठ… जानिये क्या हुआ उसका हाल ?

शायद ही कोई होगा राजस्थान के गैंगस्टर आनंदपाल का नाम नहीं जानता हो. राजस्थान में आनंदपाल का एक अलग ही नाम था जो न सिर्फ बड़े से बड़े अपराधी बल्कि पुलिस के लिए भी बड़ी चुनौती था. पिछले वर्ष पुलिस मुठभेड़ में आनंदपाल की मौत के बाद न सिर्फ राजस्थान बल्कि देशभर में भूचाल आ गया था, जब उसके समर्थन में आन्दोलन हुए थे. अपराधों की दुनिया में गैंगस्टर आनंदपाल के कई दुश्मन थे तथा आनंदपाल के इन्ही दुश्मनों में से एक था राजू ठेठ..जिसे उम्रकैद की सजा सुनाई गयी है.

खबर के मुताबिक़, कुख्यात गैंगस्टर राजू ठेठ और उसके साथी मोहन माडोता को कोर्ट ने सोमवार को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है. रानोली इलाके में विजयपाल हत्याकांड मामले में यह सजा सीकर अपर सेशन न्यायाधीश संख्या 4 सुरेंद्र पुरोहित ने सुनाई. अपर लोक अभियोजक रमेश पारीक के अनुसार 23 जून 2005 में राजू ठेठ ने विजयपाल की हत्या की थी. इस मामले में सुनवाई के बाद कोर्ट ने सजा सुनाई है.

गौरतलब है कि बता दें कि आनंदपाल, राजू ठेठ और सुभाष बराल जैसे कई नाम ऐसे हैं जिनके चलते शेखावाटी में बदमाशों की गैंग और गैंगवार शुरू हुई थी. कुख्यात गैंगस्टर आनंदपाल के राइट हैंड कहे जाने वाले सुभाष बराल ने गैंगस्टर राजू ठेठ पर सीकर जेल में गोलीबारी की थी. हालांकि गोलीबारी में राजू ठेठ बच गया था. पिछले साल बराल आनंदपाल के साथ पुलिस की गिरफ्त से फरार हो गया था लेकिन पुलिस ने सुभाष बराल को फिर से भारी हथियारों के साथ पकड़ लिया था. मार्च महीने में सदर थाना पुलिस की कार्रवाई में पकड़े में आए नौ बड़े हथियारों के तार भी राजू ठेठ और उसकी एंटी गैंग से जुड़े थे.

Share This Post

Leave a Reply