आखिर हरियाणा का सतबीर क्यों मजबूर हुआ मस्जिद के इमाम इरफ़ान को मार डालने के लिए ?


एक मस्जिद के इमाम ही नहीं उसकी बीबी की भी बुरी तरह से हत्या हुई थी . हरियाणा पुलिस के लिए थी बड़ी चुनौती ये और उस चुनौती के चलते वहां पर पुलिस ने तमाम काम छोड़ कर केवल ये जानने की कोशिश की कि आखिर कौन हो सकता है उस मस्जिद के इमाम का इतना बड़ा दुश्मन कि 2 दर्जन वार कर डाले इमाम को मार डालने के लिए . साथ ही उसकी बीबी को भी . हत्या के अंदाज़ से पता चल ही रहा था कि किसी को अथाह दुश्मनी थी उस इमाम से.

जब जांच आगे बढ़ी तो पता चला कि कुछ लोगों का ऐसा मानना था कि ये इमाम झाड फूंक कर के जिन्न आदि की बातें किया करता था . लोगों पर रूह का साया आदि बताने की भी बात सामने आ रही है इस इमाम की . ये स्थान था हरियाणा का राष्ट्रीय राजमार्ग पर पड़ने वाला गुन्नौर और मस्जिद का नाम था मनिक माजरी गांव की एक मस्जिद . इसके मृतक इमाम का नाम था इरफान जिनके साथ उनकी बीबी यास्मीन की भी लाश मिली थी . मरने वाले इमाम की उम्र लगभग 38 वर्ष के आस पास थी .

जब पुलिस ने इस मामले की पड़ताल की तो सामने आया सतबीर का नाम . सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सतबीर ही एक ऐसा व्यक्ति था जो घूम घूम कर सबसे कहता था कि ये इमाम यहाँ जादू टोना आदि का काम करता है और इसको यहाँ से भगाना है . ग्रामीणों के बयानों के आधार पर पुलिस ने शक के आधार पर सतबीर को सोमवार देर शाम हिरासत में ले लिया और पुलिस के अनुसार सतबीर ने पूछताछ में ये मान भी लिया है कि उसने ही इमाम को और उसकी बीबी को मार डाला ..

इसके बाद वह रविवार रात बल्लम लेकर मस्जिद गया लेकिन उसे वहां एक जागता हुआ मिला। जिस पर वह वापिस आ गया और देर रात फिर मस्जिद पहुंचा और वहां पहले इमाम और बाद में उसकी पत्नी की बल्लम से हत्या कर दी। पुलिस सतबीर को मंगलवार को अदालत में पेश कर हत्या करने वाला बल्लम बरामद करने के लिए रिमांड पर लेगी और साथ ही ये भी जानने की कोशिश करेगी कि क्या उसके साथ कोई भी और इमाम की हत्या करने में शामिल था .


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...