शौहरों को मरा दिखा कर सरकारी पैसा ऐंठ रही थी वो .. खबर पढ़ कर बोल उठेंगे आप कि – “अब तो हद हो गयी”

ईमानदारी का तो जमाना ही नहीं रहा इस खबर को पढने के बाद आप खुद कह देंगे . राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना के बड़े पेनामे पर फर्जीवाड़ा हो रहा है। महज़ 30 हज़ार राशि के लालच में महिलाये अपने ही शौहरों को दुबारा मृत घोसित कर योजना का लाभ उठा रही है। इस कलयुग के दौर में लालच इस कदर बड़ रहा है उन महिलाओं को लालच के आगे कुछ नहीं दीखता। भावनाओं रोंदकर योजना का लाभ उठाने के लिए मरे हुए शौहर को दुबारा मार देती है। यदि ये खेल सामने नहीं आया होता तो एक ही शौहर को कम से कम बीस पच्चीस बार मारा गया होगा और वो ये पैसे का खेल चलता रहता ..

बता दें कि समाज कल्याण अधिकारी ने ऐसी तमाम महिलाओं पर तत्काल प्रभाव से कार्यवाही करने हेतु रिपोर्ट दर्ज कराने का आदेश दिया है। पुलिस द्वारा अब इन फर्जी महिलाओं के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाएगी। यह फर्जी खेल न सिर्फ उन्नाव में हो रहा है बल्कि शहर की महिलाये भी इस फर्जीवाड़ा में शामिल है। शौहरों की मौत पर एक बार लाभ राशि लेने के बाद भी दुबारा राशि के लिए आवेदन करती है यह महिलाये।
बात यह कि बिना जाँच पड़ताल करे लेखपालों ने ऐसी महिलाओं को दोबारा राशि देने की संस्तुति भी कर दी है। सभी को चरित्र घोषित कर दिया गया। लेकिन जब समाज कल्याण विभाग ने जाँच की तो आठ मामले फर्जी पाए गए। इसमें सभी के खिलाफ कार्यवाही कराने का आदेश दिया है। सीडीओ ने बयान दिया कि फर्जीवाड़ा करके लाभ राशि पाने वालों के खिलाफ कार्रवाई शुरू हो गई है।
वहीं, सीडीओ ने इन महिलाओं पर रिपोर्ट दर्ज करने का आदेश दिया है – अब तक सामने आये नामों में फहीमाबाद निवासी बेबी तपस्सुम, बाबूपुरवा टीपी नगर निवासी साबिया खातून व नूरजहां, बेगमपुरवा की नसीमा व् कुछ अन्य मुख्य रूप से शामिल हैं. जल्द ही इन पर रिपोर्ट दर्ज होगी व् तदनुसार विधिक कार्यवाही की जायेगी । जानकारी के मुताबिक अब लेखपालों की इस लापरवाही को ध्यान में रखते हुए उनपर भी होगी विभागीय कार्रवाई। जांच पूरी होने के बाद अभी इसमें ऐसे तमाम महिलाओं के नाम सामने आ सकते हैं जो शौहरों को मरा दिखा दिखा कर सरकारी पैसे ऐंठ रही थीं . 
Share This Post

Leave a Reply