Breaking News:

शौहर ने कहा – जाओ और झूठ ही सही , 3 तलाक के समर्थन में नारे लगाओ. बीबी ने जैसे ना कहा वैसे ही वो बोल पड़े – ये “काफ़िर” हो गयी , सब करो इसका बलात्कार

जब शासन सख्त है , जब प्रशासन नजर रख रहा है , जब अदालत बिलकुल सतर्क है , फिर भी ऐसी ऐसी घटनाएं सामने आ रही है जिनके चलते एक वर्ग , एक मत ही नहीं बल्कि मानवता भी शर्मशार हो रही है .. वो काम करवाया जा रहा है जो उनका करने का मन भी नहीं है . नकली चेहरे को सामने रखने के लिए अपने मर्द होने का नाजायज़ फायदा उठाया जा रहा है क्योंकि उन्हें पता है की पुराने समय से इसको इतना दबाया गया है की इसकी हिम्मत ही नहीं है उनकी बातो का विरोध करने का .. 
मामला है उत्तर प्रदेश का जो वर्तमान में शासित है योगी आदित्यनाथ जी द्वारा शासित है .यहाँ के थाना शाहगंज के किदवई नगर के सराय ख्वाजा के रहने वाले जावेद हुसैन पुत्र नवाब हुसैन ने 21 / 04 / 2014 को पीड़िता के साथ हुआ था . पीड़िता को वैसे भी आये दिन बिना किसी कारण के ससुराल में तंग किया जाता था . एक दिन उसका शौहर जावेद आया और बोला की आज तुम्हे तीन तलाक के समर्थन में निकली रैली में जाना है जिसमे तुम्हे सबको बताना है की तीन तलाक कायम रहनी चाहिए. 
खुद भी औरत होने के नाते उसी डर से जिंदगी बिता रही पीड़िता ने तीन तलाक के समर्थन में जाने से मना कर के कहा की वो तीन तलाक को न तो सही मानती थी ना ही मानेगी . साथ ही उसने आगे बताया की वो किसी भी हालत में तीन तलाक के समर्थन में आयोजित रैली या कार्यक्रम में शिरकत नहीं करेगी . बस इतना ही बोलना था उस पीड़िता का की अचानक ही उस पर “काफिर’ होने का आरोप लगा कर उसकी पिटाई शुरू कर दी गयी .सबने उसको शरीयत की खिलाफत करने का आरोप लगा कर इतना पीटा की उसकी खाल तक उधड़ गयी और वो निढाल हो कर एक तरफ गिर पड़ी .. वो रहम की भीख मांग रही थी पर उसे पीट रहे उसके एक भी ससुराली नहीं पसीजे . 
इसके बाद वो नजदीकी थाने में गयी और अपने लिए न्याय की गुहार लगाईं पर तब पुलिस ने इस मामले को पारिवारिक और मज़हबी बताते हुए इसको घर के अंदर सुलझाने की सलाह देते हुए वापस उसी जल्लाद शौहर जावेद के साथ भेज दिया . घर आते ही थाने में शराफत की प्रतिमूर्ति बना जावेद हिंसक हो उठा और उसने अपनी ही बीबी का इज़ाद , जाहिर और ज़ाकिर को बुला आकर गैंगरेप करवाया और घर के अंदर बाँध कर रख दिया . हर दिन उसे बेरहमी से काफिर बोल कर पीटा जाता था और खाने के लिए तरसाया जाता था . 
बतौर पीड़िता उसकी हत्या की पूरी साजिश रची जा चुकी थी पर एक दिन फ़रवरी २०१७ में उसे भागने का मौका मिल गया और वो भाग कर अपने घर मायके चली आयी . वहां से दहशत के चलते पुलिस को स्पीड पोस्ट से अपनी व्यथा बताते हुए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी को अपनी व्यथा बताते हुए अपने लिए न्याय माँगा . साथ ही उसने कहा है की यदि उसको न्याय नहीं मिला तो वो मौत को गले लगा लेगी वो भी आगामी 6 जून को .. इस धमकी के बाद पुलिस वालों के माथे पर बल आ गए और आनन फानन में कार्यवाही आरम्भ कर दी . पुलिस का कहना है की जो भी दोषी मिलेगा उसके खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जायेगी . 
Share This Post