Breaking News:

अपनी मां को ज़िंदा जलते देखा 5 साल की बच्ची ने.. जल्लादों को भी मात दे गया नफीस


उत्तर प्रदेश के श्रावस्ती में घटित हुई ये घटना किसी के भी रौंगटे खड़े कर देगी. आप कल्पना करके देखिये कि 5 साल की बच्ची अपनी मां को जीवित जलते हुए देख रही हो, रो रही हो लेकिन वह कुछ कर नहीं पा रही हो. वहीं बच्ची की मां को ज़िंदा किसी और ने नहीं बल्कि उसी के पिता ने जलाया हो. उत्तर प्रदेश के श्रावस्ती के नफीस ने ऐसा किया जब उसने तीन तलाक के खिलाफ पुलिस में शिकायत करने वाली अपनी बीबी को अपनी मासूम बच्ची के सामने ही ज़िंदा जलाकर मार दिया.

मामला उत्तर प्रदेश के श्रावस्ती जिले के गदरा गांव का है. मृतका के पिता रमजान खान का आरोप है कि मुंबई में काम कर रहे उनके दामाद नफीस (26) ने 6 अगस्त को उनकी बेटी सईदा को फोन पर तीन तलाक दिया था.  इसके बाद मेरी बेटी सईदा पुलिस में शिकायत दर्ज कराने पहुंची, लेकिन पुलिस ने मामला दर्ज करने से यह कहते हुए इनकार कर दिया कि पहले पति को मुंबई से आने दो.  15 अगस्त को जब नफीस मुंबई से वापस आया तो पुलिस ने दोनों को बुलाया. पुलिस ने शौहर नफीस और बीवी सईदा से बात की और कहा कि दोनों साथ रहे.

सईदा की बेटी फातिमा ने पुलिस को बताया, ‘शुक्रवार दोपहर को मेरे पिता नमाज अता कर लौटे तो उन्होंने मां से घर छोड़कर जाने को कहा. इसी को लेकर दोनों में तकरार शुरू हो गई.  फातिमा ने बताया, ‘मेरे दादा अजिजुल्ला, दादी हसीना और बुआ गुड़िया-नादिरा आए. मेरे पिता ने मां के बाल पकड़कर उन्हें मारा. मेरी बुआ नादिरा और गुड़िया ने केरोसीन उड़ेल दिया और दादा-दादी ने माचिस जलाई.’ ये सब हो जाने के बाद जब सईदा के परिवार वालों को इस बारे में जानकारी मिली तो वे आनन-फानन में वहां पहुंचे.

सईदा का भाई रफीक फातिमा को लेकर पुलिस स्टेशन गया. पुलिस के सामने पांच साल की बच्ची पूरे घटनाक्रम की बात बताई. पुलिस ने रविवार को एफआईआर दर्ज करने के बाद इस मामले की जांच के लिए एक टीम बनाई है. सईदा के शव को ऑटोप्सी के लिए भेजा गया है. श्रावस्ती पुलिस अधीक्षक  ने बताया कि नफीस और उसके परिवार के खिलाफ दहेज उत्पीड़न, हत्या और दहेज विरोधी कानून के तहत मामला दर्ज किया गया है. एसपी ने कहा कि पीड़िता के पिता द्वारा लगाए गए तीन तलाक के आरोप की जांच की जाएगी. साथ ही इस मामले को भी देखेंगे कि पीड़िता द्वारा पुलिस में जाने के बाद भी मामला दर्ज क्यों नहीं हुआ.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...