नहीं चलेगा गुंडाराज. अतीक अहमद पर और ज्यादा सख्ती

योगी आदित्यनाथ ने मुख्यमंत्री की शपथ के साथ ही घोषणा की थी कि अपराधी उत्तर प्रदेश छोड़ दें अन्यथा उन्हें भारी कीमत चुकानी पड़ेगी . अपने उसी बयान पर अमल करना शुरू किया है योगी सरकार ने . 

पहले अक्सर शिकायत रहती थी कि सरकारें केवल गरीबों को तंग करती हैं और उनका जोर बड़े लोगों पर नहीं चलता है . पर योगी आदित्यनाथ सरकार ने लोगों की इस विचारधारा को पूरी तरह से बदल दिया और अपनी कार्यवाही की शुरुआत ही उन लोगों से की है जो कभी हुआ करते थे अपराध जगत के बादशाह . वो लोग शुरआत में हैं सरकार के निशाने पर जो बोले जाते थे कभी बाहुबली .

मुख्तार अंसारी और अतीक अहमद २ ऐसे नाम थे जो पूर्वी उत्तर प्रदेश में अपराध जगत की रीढ़ माने जाते थे . शुरूआती कानूनी शिकंजा इन्ही दोनों पर चला है . अतीक अहमद को उनके गृह जनपद से देवरिया जेल में शिफ्ट करने के बाद अब योगी सरकार ने देवरिया जेल की सुरक्षा को अत्यधिक उच्चतम स्तर पर लाने का फैसला किया है जिस से किसी भी व्यक्ति को कोई विशेष छूट या सुविधा ना मिल सके .

योगी सरकार के इस फैसले के बाद अब देवरिया जेल जिसमे अतीक अहमद निरुद्ध है , की सुरक्षा में PAC के जवान तैनात होंगे , जेल में अत्याधुनिक जैमर लगाया जाएगा जिसके बाद किसी भी प्रकार से मोबाइल आदि प्रयोग की सम्भावनाये समाप्त हो जायेगी . विगत कुछ समय में ही देवरिया जेल का दौरा तमाम वरिष्ठ जेल अधिकारी कर चुके हैं जिन्होंने बारी बारी से सुरक्षा चाक चौबंद करने के आदेश जारी किये .  योगी सरकार के इस फैसले के बाद तमाम माफियाओं , गुंडों में भय की लहर है .

Share This Post