सामान्य वर्ग के लिए सुविधाओं की शुरुआत हुई योगी आदित्यनाथ के द्वारा .. कक्षा 9 व 10 के सवर्ण छात्रों की भलाई के साथ

जनता के रुख को भांपने की शुरुआत सबसे पहले भी कहा जा सकता है इसको व एक बड़े वर्ग की मांग पर ध्यान देना भी कहा जा सकता है.. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की उत्तर प्रदेश सरकार ने एक बड़ा कदम उठाया है जो सवर्ण कैटेगरी अर्थात जनरल कोटे में आने वाले लोगो के लिए एक सकारात्मक पहल के रूप में देखा जा रहा है .. विदित हो कि चुनावी आंकड़ो के अनुसार इसी वर्ग की उपेक्षा का प्रतिफल मध्यप्रदेश में शिवराज, राजस्थान में वसुंधरा राजे व छत्तीसगढ़ में रमन सिंह को झेलना बताया जा रहा है जहां भारतीय जनता पार्टी के हारे प्रत्याशी के मतों के अंतर से कहीं ज्यादा वोट आक्रोश स्वरूप NOTA पर दबाए गए थे..

ज्ञात हो कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक बड़ा फैसला लिया है ..प्रदेश में कक्षा-9 व 10 के सामान्य वर्ग के छात्रों को भी अब तीन हजार रुपये सालाना छात्रवृत्ति मिलेगी। इतना ही नहीं उनके लिए पात्रता की शर्तों में परिवार की सालाना इनकम भी दो लाख रुपये से बढ़ाकर ढाई लाख रुपये कर दी गई है। इस बारे में शासनादेश जारी कर दिया गया है। इसका फायदा तीन लाख से ज्यादा छात्रों को मिलेगा।

अभी तक सामान्य वर्ग के छात्रों के लिए 2250 रुपये सालाना ही छात्रवृत्ति दी जाती थी। इसी तरह से उन्हीं छात्रों को यह सुविधा मिलती थी, जिनके परिवार की सालाना आमदनी अधिकतम दो लाख रुपये है। अब अधिकतम आयसीमा भी बढ़ा दी गई है।

जारी शासनादेश में कहा गया है कि सामान्य वर्ग पूर्वदशम (कक्षा-9 एवं 10) छात्रवृत्ति नियमावली-2018 के तहत यह संशोधन किया गया है। समाज कल्याण विभाग के अधिकारियों का कहना है कि अभी तक योजना का लाभ लेने के लिए सामान्य वर्ग के दो लाख छात्र आवेदन करते थे, लेकिन आयसीमा बढ़ाए जाने पर यह संख्या बढ़कर तीन लाख होने का अनुमान है।

 

Share This Post