जिन्दा जला दिया गया भारत की जीत का जश्न मनाने वाला दलित युवक… आखिर कैसे जीता जायेगा “विश्वास” ?

जहाँ एक तरफ भारत के प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी हर सम्भव कोशिश कर के हर वर्ग का विश्वास जीतने की कोशिश कर रहे हैं तो वहीँ समाज के अन्दर ही छिपा एक वर्ग उनके सभी प्रयासों को चुनौती दे रहा है . एक बार फिर से सामने आ रही है एक ऐसी दुस्साहसिक घटना जिसको सुन कर एक बार किसी के भी रोंगटे खड़े हो जायेंगे.. ये मामला है योगी आदित्यनाथ शासित उत्तर प्रदेश के जनपद प्रतापगढ़ का जो अक्सर रघुराज प्रताप सिंह उर्फ़ राजा भैया के नाम के साथ चर्चित रहता है ..

यहाँ पर एक बार फिर से दलित का सम्मान और एकता के नारे लगाने वालों पर सवाल खड़े हो रहे हैं क्योकि यहाँ पर एक देशभक्त युवक को जिन्दा जलाया गया है और वो दलित वर्ग का है जिसकी आवाज उठाने वाला और उनके लिए न्याय मांगने वालों में वो नहीं हैं जो अक्सर तख्तियां ले कर ट्विटर आदि पर दिखाई दे जाते हैं . भारत-पाकिस्तान के मैच में जीत का जश्न मनाने के बाद फूस की झोपड़ी में आग लगने से चपेट में आए एक शख्स की मौत हो गई। यह घटना यूपी के प्रतापगढ़ के रामपुर बेला गांव की है।

मृतक विनय प्रकाश अनुसूचित जाति का था। बताया जा रहा है कि रविवार को उसने भारत-पाक मैच देखने के बाद भारत की जीत का नाचकर जश्न भी मनाया था। इस बात पर समुदाय के लोगों के साथ उसकी बहस भी हुई थी।सोमवार की सुबह गांववालों ने देखा कि गांव के बाहरी इलाके में बने विनय की झोपड़ी जल चुकी थी. उसका शव पूरी तरह से जल चुका था, जिससे उसकी पहचान नहीं हो पा रही थी. गांववालों का दावा है कि उसकी हत्या की गई है और इसका संबंध रविवार देर रात भारत की जीत का जश्न मनाने को लेकर हुए विवाद से है.

देखिये इस मामले में प्रतापगढ़ पुलिस का वक्तव्य –

सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW