Breaking News:

परीक्षा पे चर्चा के दौरान पीएम मोदी ने पूर्व दिग्गज क्रिकेटर अनिल कुंबले का किया था जिक्र.. अब कुंबले ने कही ये बात


 

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान तथा महानतम स्पिनर अनिल कुंबले ने एक प्रेरणा के तौर पर उनका नाम लेने किये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को  धन्यवाद दिया है. बता दें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 19 जनवरी को दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में छात्रों के साथ परीक्षा पर चर्चा के दौरान कभी भारतीय क्रिकेट टीम की रीढ़ रहे दिग्गज स्पिनर कुंबले का उदाहरण दिया था. मोदी ने कुंबले के उस मैच का जिक्र किया था जिसमें वो वेस्टइंडीज के खिलाफ जबड़े में चोट के बाद भी गेंदबाजी करने उतरे थे और फिर ब्रायन लारा का विकेट लिया था.

कल बुधवार को अनिल कुंबले ने ट्वीट किया तथा छात्रों को मोटिवेट करते समय उनका जिक्र करने के लिए पीएम मोदी को धन्यवाद किया. कुंबले ने ट्वीट कर लिखा, “परीक्षा पर चर्चा के दौरान प्रधानमंत्री द्वारा मेरा नाम लिए जाने से सम्मानित महसूस कर रहा हूं. धन्यवाद प्रधानमंत्रीजी. जो लोग परीक्षा देने जा रहे हैं उनको शुभकामनाएं.”

पीएम मोदी ने अपने वक्तव्य में कुंबले के अलावा वीवीएस लक्ष्मण, राहुल द्रविड़ का भी जिक्र किया था. राजस्थान की एक छात्रा ने पीएम मोदी से आगामी बोर्ड परीक्षाओं के लिए छात्रों को प्रेरित करने और उन्हें बिना किसी तनाव के परीक्षा का सामना करने के लिए कुछ सुझाव देने के लिए कहा था. छात्र को जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने क्रिकेट की दुनिया से जुड़ी दो घटनाओं को याद किया. एक 2001 में ऑस्ट्रेलिया से भारत का मुकाबला और दूसरा 2002 में वेस्टइंडीज के खिलाफ भारत की भिड़त का.

पीएम मोदी ने कहा कि क्या आपको 2001 में भारत-ऑस्ट्रेलिया टेस्ट सीरीज याद है? हमारी क्रिकेट टीम को असफलताओं का सामना करना पड़ रहा था। मूड बहुत अच्छा नहीं था. लेकिन, उन क्षणों को क्या हम कभी भूल सकते हैं कि राहुल द्रविड़ और वीवीएस लक्ष्मण ने क्या किया. उन्होंने मैच का रुख पलट दिया. द्रविड़ और लक्ष्मण ने पिच पर कमाल किया और पूरे खेल को खींचा. पूरी परिस्थिति पलट दी और मैच को भी जिता दिया.

दूसरी घटना में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अनिल कुंबले का जिक्र किया.पीएम मोदी ने कहा कि इसी तरह 2002 में हमारे गेंदबाज अनिल कुंबले बाउंसर की चपेट में आने के बाद घायल हो गए. यह सुनिश्चित नहीं था कि वह मैच में गेंदबाजी करेंगे या नहीं. अगर उन्होंने गेंदबाजी नहीं भी की होती तो भी देश  उन्हें दोषी नहीं ठहराता, लेकिन उन्होंने खेलने का फैसला किया और ब्रायन लारा का विकेट लिया. उस विकेट के साथ उन्होंने मैच का रुख मोड़ दिया. एक व्यक्ति का दृढ़ संकल्प दूसरों को भी प्रेरित कर सकता है.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share