इस देश की कप्तानी कर रहा था ये शानदार क्रिकेटर.. अब भारत के लिए खेलने की हुई जिज्ञासा तो कप्तानी छोड़ आ गया भारत.. अब टीम इंडिया में जगह बनाने को है बेताब


चाहे इसे भारत के प्रति इस शानदार क्रिकेटर का लगाव कहो या भारतमाता की सेवा करने का जज्बा.. या फिर भारत जी पावन की मिट्टी की खुशबू भी कह सकते हैं जो इस क्रिकेटर को वापस भारत खींच लाई. हम बात कर रहे हैं हांगकांग क्रिकेट टीम के कप्तान तथा शानदार बल्लेबाज अंशुमन रथ के बारे में, जिन्होंने हांगकांग क्रिकेट टीम की कप्तानी छोड़ दी है. अंशुमन ने हांगकांग की कप्तानी इसलिए छोडी है क्योंकि वह अब मैन इन ब्लू अर्थात टीम इंडिया में खेलना चाहते हैं.

खैर भारत में जो भी बच्चा क्रिकेट खेलना शुरू करता है, वह भारत की ओर से खेलने का सपना जरूर देखता है. हर क्रिकेटर चाहता है कि वह टीम इंडिया की जर्सी पहिनकर एक बार मैदान में जरूर उतरे. वहीं तमाम ऐसे भारतीय मूल के क्रिकेटर भी हैं जो दूसरे देशों की तरफ से क्रिकेट खेल रहे हैं. ऐसे ही एक क्रिकेटर हांगकांग की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के कप्तान अंशुमन रथ. टीम इंडिया में खेलने का सपना पूरा करने के लिए उन्होंने कप्तानी से इस्तीफा दे दिया है. अंशुमन रथ अब भारत के लिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलना चाहते हैं.

खबर के मुताबिक़, अंशुमन रथ  ने हांगकांग टीम के कप्तान के पद से इस्तीफा देने के बाद खुद को भारत में रणजी ट्रॉफी में सेलेक्‍शन के लिए उपलब्‍ध बताया है. उन्होंने कहा कि इतने सालों में हांगकांग क्रिकेट ने मेरे लिए जो कुछ भी किया है, उसके लिए मैं उनका धन्यवाद अदा करना चाहता हूं. उन्होंने कहा है कि हांगकांग के साथ 12 साल की उम्र से मेरा साथ रहा है तथा उए सफ़र शानदार रहा है. मगर अब मुझे लगता है कि आगे बढ़ने का वक्त आ गया है. मैं अब अपने मूल देश भारत के लिए खेलना चाहता हूँ, साथ ही मैं हांगकांग क्रिकेट को भविष्य के लिए बधाई और शुभकामनाएं देता हूं.

बता दें कि अंशुमन रथ के पास भारतीय पासपोर्ट भी है और अब वह आईपीएल 2020 में अनकैप्ड स्‍थानीय खिलाड़ी के तौर पर प्रवेश पा सकते हैं. रथ एक शानदार बल्लेबाज के साथ ही गेंदबाज भी हैं. वह विकेटकीपिंग भी करते हैं. उन्होंने हांगकांग के लिए 18 वनडे खेले हैं, जिनमें उन्होंने 51.75 की औसत से 828 रन बनाए हैं, जबकि उन्होंने 5 फर्स्ट क्लास मैचों में 62.76 की औसत से 391 रन बनाए.  20 टी-20 मुकाबलों में 18.88 की औसत से उनके बल्ले से 321 रन निकले हैं. इतना ही नहीं, अंशुमन रथ ने वनडे में 14 विकेट, टी-20 में 5 और फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 7 विकेट भी लिए हैं. अंशुमन रथ ने खुद को रणजी ट्रॉफी के लिए उपलब्‍ध बताया है और इसमें अच्छा प्रदर्शन कर वे राष्ट्रीय टीम में जगह बनाना चाहते हैं.

अंशुमन रथ ने कहा कि ये फैसला मुझे उस खेल में लंबा करियर बनाने में मदद करेगा, जिसे मैं बहुत प्यार करता हूं. भारत के लिए खेलना हमेशा से मेरा सपना था. इससे मुझे पूरी तरह से प्रोफेशनल ‌सिस्टम में काम करने का मौका मिलेगा. अंशुमन रथ ने कहा कि 90 के दशक में मेरे परिजन हांगकांग आये थे. मैं हांगकांग में ही पला बढ़ा लेकिन मेरे दिल में हिंदुस्तान धड़कता है. अब मैं हिंदुस्तान के लिए खेलना चाहता हूँ. बता दें कि अंशुमन की उम्र मात्र 20 साल है तथा उन्हें हांगकांग में धोनी का प्रतिरूप कहा जाता है. रथ को उम्मीद है कि वो अगले साल तक भारत के लिए रणजी क्रिकेट में डेब्यू कर सकेंगे, साथ ही हांगकांग टीम छोड़ने के बाद रथ बतौर लोकल अनकैप्ड खिलाड़ी आईपीएल नीलामी में हिस्सा ले सकेंगे.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करें. नीचे लिंक पर जाऐं–


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share