क्रिकेट टीम की जर्सी में भगवा रंग होने से भडक उठी कांग्रेस और समाजवादी पार्टी.. दोनों ने एक स्वर में किया विरोध

कभी भगवा को आतंकवाद कहने पर जिन लोगों ने एक बार भी विरोध नहीं किया था अब वही खुल कर सामने आ गये हैं भगवा रंग को भारत की क्रिकेट टीम की जर्सी में शामिल करने से.. भले ही राहुल गाँधी मन्दिरों में जा कर खुद को एक जनेऊधारी हिन्दू साबित करने के तमाम प्रयास कर रहे हों लेकिन उनकी पार्टी से आने वाले बयानों से ये साफ हो रहा है कि कांग्रेस अभी भी अपनी उस विचारधारा पर कायम है जिसको नापसंद कर के लगातार हिन्दू समाज उस से दूर होता जा रहा है .

कभी अवैध खनन और जातीय हिंसा के लिए चर्चित रहा सहारनपुर अब बदल गया है .. मिलिए इस बदलाव के सूत्रधार से

कांग्रेस को इसमें साथ समाजवादी पार्टी का मिल रहा है जो उत्तर प्रदेश में अपने वर्तमान हालातों में ऐसे काल में कही जा सकती है जो शायद सबसे बुरा दिन माना जाय . भारत की क्रिकेट टीम के लिए जैसे ही नई ड्रेस में भगवा रंग प्रस्तावित किया गया वैसे ही ये दोनों पार्टिया बोल उठी हैं और वो बोल विरोध में ही हैं .. इस से पहले टीम इंडिया की टी शर्ट कई रंगो में रंग चुकी है लेकिन उसका कभी विरोध नहीं हुआ.. लेकिन इस बार भगवा रंग प्रस्तावित होते ही सबसे पहले कांग्रेस और सपा ने अपने तेवर दिखा दिए .

रूस से मिसाइल खरीदने पर चीख रहे अमेरिका को इस अंदाज में खामोश करवाया भारतीय विदेश मंत्री ने.. संदेश साफ- “राष्ट्र सर्वप्रथम”

भगवा रंग का विरोध करते हुए कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री नसीम खान ने कहा कि मोदी सरकार जब से आई है तब से भगवा राजनीति शुरू हुई है. तिरंगे का सम्‍मान हो. राष्ट्रीय एकता को प्रमोट किया गया है. यह सरकार हर चीज के भगवाकरण की तरफ बढ़ रही है. वही अखिलेश यादव के बेहद करीबी समाजवादी पार्टी के नेता अबु आजमी ने कहा, ‘मोदी पूरे देश को भगवे में रंगना चाहते है. मोदीजी को बताना चाहता हूं कि झंडे को कलर देने वाला मुस्लिम था. तिरंगे में और भी रंग है सिर्फ भगवा ही क्यों. तिरंगे के रंग में उनकी जर्सी होती तो बेहतर होता.’

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

Share This Post