मौत के खेल के लिए कुख्यात पाकिस्तान को रास नहीं आया मैदान का खेल.. जानिये क्या हश्र हुआ IPL की नक़ल का

भारत का पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान, जो अपने खूनी खेल अर्थात दुनिया में आतंकवाद फैलाने के लिए कुख्यात है, उसे मैदान का खेल रास नहीं आया है. खबर के मुताबिक़, दुनियाभर में लोकप्रियता के झंडे गाढ़ चुकी भारत की क्रिकेट लीग IPL की नक़ल कर पाकिस्तान सुपर लीग PSL शुरू करने वाले पाकिस्तान को करारा झटका लगा है. एकतरफ भारत की आईपीएल न सिर्फ BCCI बल्कि भारतीय क्रिकेट के लिए बेहद ही लाभकारी साबित हुई है तो वहीं दूसरी तरफ पाकिस्तान सुपर लीग PSL का बुरा हश्र हुआ है.

दरअसल, पाकिस्तान सुपर लीग के शुरुआती 2 सीजन के चलते पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को करोड़ों रुपए का घाटा हुआ है. यह राशि लगभग 25 करोड़ की है. लीग के शुरुआती 2 सीजन को लेकर जारी की गई एक विशेष ऑडिट रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान के ऑडिटर जनरल ने बताया कि टीमों को अनियमित तौर पर भुगतान किया गया. फ्रेंचाइजियों से लिए जाने वाले पैसे की रिकवरी नहीं हुई और पत्रकारों व बोर्ड ऑफ गवर्नर्स के सदस्यों को टीए-डीए का भुगतान किया गया.

पाकिस्तानी मीडिया द डॉन की खबर के मुताबिक, पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को इससे लगभग 24.86 करोड़ का नुकसान हुआ है, जिसमें 3.20 करोड़ की वो रकम भी शामिल है, जिसकी रिकवरी फ्रेंचाइजियों से नहीं हुई है. रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि पीसीबी ने गैरकानूनी तरीके से पीएसएल के फंड को पाकिस्तान के बाहर थर्ड पार्टी के बैंक अकाउंट में ट्रांसफर किया है. यह राशि लगभग 14.51 करोड़ रुपये है. इतना ही नहीं पीसीबी को कमर्शियल ब्रॉडकास्ट राइट्स के वितरण में भी 1.3 करोड़ का भारी-भरकम नुकसान हुआ है.

2016 में शुरू हुए PSL के अबतक चार सीजन हो चुके हैं। इंडियन प्रीमियर लीग की तर्ज पर शुरू हुए इस टूर्नामेंट का मकसद पाकिस्तान के युवा खिलाड़ियों की प्रतिभा को निखारना और तलाशना था। पाकिस्तानी संसद में सोमवार को प्रस्तुत किए गए आंकड़ों की माने तो पीसीबी बकाया राशि भी नहीं वसूल पाया, जिसे उसे 3.20 करोड़ का नुकसान हुआ. ज्ञात हो कि आतंकवादी हमलों और सुरक्षा चिंताओं के कारण विदेशी टीमों के पाकिस्तान दौरे न करने की वजह से पाकिस्तान पहले से ही कंगाल था, इसी कारण उसने PSL शुरू किया था लेकिन PSL से भी पाकिस्तान घाटे में चला गया है.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW