भारत की अग्रणी महिला पहलवान साक्षी मलिक कुश्ती चैंपियनशिप में इतिहास रचने से चूकी

रियो
ओलंपिक में भारत की अग्रणी महिला पहलवान साक्षी मलिक ने शुक्रवार को जारी एशियाई
कुश्ती चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीता लेकिन वो इतिहास रचने से थोड़ा सा चूक गईं।
बता दें
, साक्षी के साथ साथ भारत की दो और
पहलवान विनेश फोगाट और दिव्या काकरान को 
अपने-अपने वर्ग में हार का मुँह देखना पड़ा। जापान की खिलाडी रिसाको ने साक्षी
को 
60
किलोग्राम वर्ग के फाइनल में
10-0 से
हराया।

बता
दे
, साक्षी पहली बार 60 किग्रा वर्ग में खेल रही थीं और रियो में उन्होंने 58 किलोग्राम वर्ग में कांस्य जीता था। सेमीफाइनल
में कजाकिस्तान की आयौलीम कासेमोवा को
15-3 से
हराने वाली साक्षी इतिहास रचने और अपने ही देश की दो पहलवानों की हार का हिसाब
कवाई से चुकाने से चूक गईं। कवाई
2016
रियो ओलम्पिक में स्वर्ण व
2
बार विश्व कप और
2 बार एशियाई चैंपियनशिप जीत चुकी हैं।

एक
निजी चैनल के जरिये साक्षी ने मैच के बाद बात करने के दौरान कहा कि यह मेरे लिए
खराब दिन रहा लेकिन अब मैं आगे की प्रतियोगिताओं में बेहतर करने की उम्मीद के साथ
प्रयास करूंगी।

दूसरी
तरफ दिव्या को
69 किलोग्राम वर्ग में जापान की सारा
दोशो ने
0-8 से हराया। दिव्या ने शुरुआती तौर पर
अच्छा खेला लेकिन बाद में वह लय से भटक गईं और इसी का फायदा उठाकर दोशो ने लगातार
अंक बटोरते हुए स्वर्ण पदक अपने नाम करने में कामयाब रही।

 

Share This Post