पाकिस्तान में अफरीदी अपने प्रधानमन्त्री को ललकार रहा चीन के मुसलमानों के लिए.. भारत में विराट कोहली से पूछा गया CAA पर सवाल तो ये मिला जवाब


अगर लिबरल शब्द की ढंग से विवेचना की जाय तो सबसे जायदा इस श्रेणी में भारत में ही प्राणी दिखाई देते हैं. लिबरल इतना कि कभी मनोरंजन के नाम पर उस देश के फ़िल्मी कलाकारों को अपने देश में बुलवा कर पैसा कमाना जिनके सामने अपने देश के सैनिक सीना तान कर युद्ध की मुद्रा में खड़े रहते हैं तो कभी खेल के नाम पर इतना ज्यादा आगे बढ़ जाना कि खेल को सभी सीमाओं से ऊपर बता कर एक नई व्याख्या करते हुए अपने कुतर्को को हर प्रकार से सही ठहराना.

फिलहाल खेल और मनोरजंन की सीमाए कम से काम पाकिस्तान में जरूर तय हैं जहाँ पर पहले तो दानिश कनेरिया जैसे प्रतिभाशाली खिलाड़ी को केवल इसलिए उपेक्षित रखा जाता है क्योकि वो हिन्दू था तो वही बाद में चीन के मुसलमानों के लिए पाकिस्तान का सबसे चर्चित खिलाड़ी शाहिद अफरीदी अपने प्रधानमन्त्री को ललकार कर कुछ करने के लिए कहता है. सईद अनवर और इंजमाम उल हक जैसे खिलाडी आगे चल कर मौलाना बन जाते है लेकिन भारत में अलग ही बयार है.

छोटी – २ बातों पर भी ट्विट करने वाले किसी एक भारतीय खिलाडी ने दानिश कनेरिया के साथ हुए दुर्व्यवहार पर विरोध नहीं जताया.. और जब विराट कोहली से CAA पर सवाल हुआ तो उन्होंने इस पर कमेन्ट करने से ही मना कर दिया.  उन्होंने कहा, ‘इस मुद्दे पर मैं किसी तरह का गैरजिम्मेदाराना बयान नहीं देना चाहता। ऐसे मुद्दे पर जिसे लेकर दोनों तरफ से अलग-अलग तरह के बयान सामने आ रहे हैं।’ मैं इस तरह के किसी मामले में नहीं पडऩा चाहता जिसके बारे में मुझे पूरा जानकारी नहीं है।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share