सेना के बाद बारी थी खिलाड़ियों की. बैडमिंटन ने भारतीयों ने चीन को रौंदा….

जंग के मैदान पर जैसे भारत के सैनिकों से चीनी सैनिकों का बुरा हाल है और वही खेल के मैदान पर भी भारत के बैडमिंटन कोर्ट में भारत के खिलाड़ियों ने चीन को पछाड़ कर इतिहास रच दिया है और टॉप 100 में इंडिया के 14 खिलाड़ी पहुंचे गए है। भारत में अगर किसी खेल प्रेमी से बैडमिंटन के स्टार के बारे में पूछा जाए तो लोगों के जुंवा पर पहला नाम ओलंपिक पदक जितने वाले विजेता साइना नेहवाल और पीवी सिंधू नाम आता है। इन दो महिला खिलाड़ियों ने केवल चीनी वर्चस्व को तोड़ कर विश्व बैडमिंटन में भारत की अलग पहचान बना दी है। 
लेकिन अब भारत के पुरुष खिलाड़ी भी नहीं रह रहे अब वो भी वर्ल्ड बैडमिंटन में अपनी चमक बिखेर रहे हैं। और यंहा वर्तमान के पुरुष वर्ग में भारत का सबसे चमकता सितारा किदांबी श्रीकांत हैं और अभी शुक्रवार को जारी की गई नई विश्व रैंकिंग में श्रीकांत ने पहली बार टॉप 10 में जगह बना ली है। इसके साथ ही भारत ने एक नया इतिहास रच दिया। इससे पता चलता है की दुनियाभर में बैडमिंटन के पावरहाउस के रूप में पहचान रखने वाले चीन की ताकत कुछ कम होती जा रही है। इस वर्ल्ड बैडमिंटन की नई रैंकिंग में पुरुष वर्ग भारत में सबसे ज्यादा शटलर टॉप 100 खिलाड़ियों में शामिल हो गए हैं। 
यह पहली बार इनती बड़ी संख्या में भारतीय खिलाड़ी टॉप 100 में पहुंच गए हैं और अब भारतीय बैडमिंटन के सामने चीन पिछड़ता जा रहा है। भारत के सबसे ज्यादा 14 खिलाड़ियों को टॉप 100 खिलाड़ियों में जगह मिली है। भारत के बाद इंडोनेशिया के 9 खिलाड़ी दूसरे स्थान पर हैं और तीसरे स्थान पर 8 खिलाड़ियों के साथ डेनमार्क है। वहीं चीन अब 7 खिलाड़ियों के साथ चौथे स्थान पर है। चीन की तुलना में अब भारतीय खिलाड़ी दुगनी संख्या में हैं। दोनों के बीच तीन पायदान का फांसला है। बैडमिंटन की दुनिया भारत अब एक नए पावरहाउस के रूप में उभरता दिखाई दे रहा है।
लगातार दो सुपर सीरीज के खिताब जीतने वाले किदांबी श्रीकांत के साथ-साथ पुरुष वर्ग में भी साईं प्रणीत और एचएस प्रणॉय जैसे खिलाड़ी भारतीय परचनम लहरा रहे हैं। जो भारत की नई जारी रैंकिंग में किदांबी श्रीकांत 8वें पायदान पर हैं। वहीं बी साई प्रणीत 15वें, अजय जयराम 16वें, एचएस प्रणॉय 23वें, समीर वर्मा 33वें और सौरभ वर्मा 35वें स्थान पर हैं। वंही टॉप 25 में चीन के 7 में से 6 खिलाड़ी हैं और भारत के 4 खिलाडी है। लेकिन टॉप 50 में चीन के 7 और भारत के 6 खिलाड़ी हैं।
50 रैंक के बाद भारत के आठ खिलाड़ियों में लंदन ओलंपिक के क्वार्टरफाइनलिस्ट पी कश्यप 60वें पायदान पर हैं। उनके अलावा और भी विश्व के नंबर एक जूनियर खिलाड़ी रह चुके सिरिल वर्मा 80 और आदित्य जोशी 98 वें पायदान पर हैं। इनके अलावा प्प्रतुल जोशी 66, शुभंकर डे 73, आनंद पवार 86, अभिषेक येलेंगर 89, हर्षील दानी 96 वें स्थान पर हैं। इसका मतलब यही है कि चीनी खिलाड़ियों पर भारत के युवा खिलाड़ी ने शुरुआती बढ़त बनाए रखी है। ये खिलाड़ी आने वाले समय में टॉप टेन की तरफ बढ़ेंगे। जिससे यहाँ भी चीन को भारतीय खिलाड़ियों से परेशानी होगी। 
Share This Post