23 जनवरी: हिन्दू हृदय सम्राट बाला साहब ठाकरे जयंती पर बारंबार नमन उस महान को, जो अनंत काल तक जीवित रहेंगे करोड़ों दिलों में

वैसी शख्सियत शायद ही स्वतंत्र भारत मे आई रही हो. अगर किसी को बेताज , सदाबहार बादशाह देखना हो तो

Read more

22 जनवरी: जन्मजयंती काकोरी के क्रांतिवीर रोशन सिंह.. फांसी के समय हाथ मे श्रीमद्भागवत गीता थी और होठों पर वन्देमातरम का उद्घोष

इनका भी नाम गुमनाम किया गया क्योंकि सवाल एक खास चरखे आदि के चलने का था और स्वघोषित सिद्धांत आदि

Read more

26 दिसंबर: “जेलर – कोई अंतिम इच्छा ? उत्तर – अंतिम इच्छा उस हत्यारे को मारने की थी, वो पूरी हो गई”.. जन्मजयंती वीर ऊधम सिंह

आज जिस अमर हुतात्मा की जन्मजयंती है उस वीर के महानतम कार्य उस गाने को गाली के समान सिद्ध करते

Read more

अटलजी जन्मजयंती विशेष: वो समय जब भारत के खिलाफ एक हो गये थे इस्लामिक मुल्क तथा प्रधानमंत्री थे नरसिम्हा राव.. तब उन्हें अटलजी में दिखी थी एकमात्र उम्मीद और पलट गया था पासा

भारतीय राजनीति के आकाश ध्रुवतारे रहे भारत रत्न पूर्व प्रधानमन्त्री माननीय अटल बिहारी वाजपेयी जी की आज पुयातिथि है. पिछले

Read more

25 दिसंबर: जन्मजयंती तुष्टिकरण के अंधेरे के खिलाफ भारत की प्रथम किरण श्रद्धेय अटल बिहारी वाजपेयी जी.. सदा गूंजेगा आपका “गगन में लहरता है भगवा हमारा” का उदघोष

वो आवाज जो आज भी गूंज जाती है कानो में, वो नाम जो सदा ध्रुव तारे की तरह अटल रहेगा

Read more

3 दिसंबर: “बहुत गरीब हूँ मैं, मेरे पास मेरी भारत माँ को देने के लिए सिर्फ मेरे प्राण थे, जिसे मैं दे रहा”. जन्मजयंती क्रांतिवीर “खुदीराम बोस” जिन्हें नेहरू ने कहा था “हत्यारा”

भारतीय स्वतन्त्रता के इतिहास में अनेक कम आयु के महावीरों ने भी अपने प्राणों की आहुति दी थी। उनमें से

Read more

19 नवम्बर: जन्मजयंती वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई जी. उनकी गौरवगाथा को जानने वाला राष्ट्र अब जानना चाहता है उस गद्दार परिवार को जिसने दिया था रानी के विरुद्ध अंग्रेजों का साथ

नकली कलमकारों व चाटुकार इतिहासकारों द्वारा भले ही तमाम वीर व वीरांगनाओं के इतिहास को आम जनता ने जैसे तैसे

Read more

31 अक्टूबर: जन्मजयंती लौहपुरुष सरदार पटेल जी.. राष्ट्रीय अखंडता को मज़हबी चरमपंथियों व सत्ता लोलुपों से बचाने, सोमनाथ पुनरुद्धार व पाक परस्त निज़ाम को झुकाने जैसे अनगिनत यश सदा याद रखेगा राष्ट्र

यकीनन सिर्फ एक कदम आगे और बढ़े होते तो न कश्मीर की समस्या होती और न ही लगभग हर कोने

Read more

19 अक्टूबर: जन्मजयंती वीरांगना मातंगिनी हाजरा.. जिन्होंने तीन गोलियां लगने के बाद भी हाथ से गिरने नहीं दिया तिरंगा तथा वंदेमातरम बोलते हुए ली अंतिम सांस

अगर आप मातंगिनी हाजरा जैसी भारत की वीरांगनाओं के शौर्य की गाथा सुनोगे तो शायद आपको “दे दी हमें आजादी बिना खड़ग

Read more

12 अक्टूबर: जन्मजयंती राजमाता विजयाराजे सिंधिया जी. जो प्रतीक बनी रही सादगी व् सेवा भाव का

जो धन धान्य से पूर्ण हो उसको अक्सर मद या अहंकार से ग्रसित जरूर देखा रहा होगा आप ने .

Read more