23 जुलाई – जन्मदिवस पर नमन है लोकमान्य तिलक जी को जिन्होंने राष्ट्रनीति के साथ धर्म भी निभाया और गरम दल के द्वारा क्रांतिकारियों के बने प्रेरणास्रोत

‘स्वराज हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है और मैं इसे लेकर रहूँगा’ – बाल गंगाधर तिलक . बहुत पहले ही ये जान

Read more

14 मई – जन्मजयंती छत्रपति संभाजी महाराज .. अंग अंग काटते रहे मुगल मुसलमान बनाने के लिए, पर हर घाव से आवाज आई – “जय भवानी”

ये दोष उन चाटुकार इतिहासकार और झोलाछाप कलमकारों का है जो आक्रांता औरंगजेब के गुणगान गाते रहे और धर्म रक्षक

Read more