शानदार करियर के साथ देशसेवा युवाओं के लिए एक बेहतर करियर क्षेत्र ….

कुछ समय से यह देखने को मिल रहा हैं कि युवा सेना में भरती नहीं होना चाते हैं। अब वे इस क्षेत्र में अपना भविष्य नहीं बनाना  चाहते हैं। युवाओं का सेना से मोह भंग होता जा रहा है और वे इस क्षेत्र में करियर के लिए उतने उत्सुक नहीं हैं, जितने पहले हुआ करते थे।

बता दें कि पहले के समय सेना में युवा अधिक हुआ करते थे पर आज के समय युवा अपने नौकरी के तय समय से पहले ही रिटायर हो जाते है। आखिर वो कौन सी वजह है जो सेना के निधारित समय से पहले ही नौकरी से रिटायर हो जातें है पिछले साल 10 हजार के आस पास लोगों ने सेना की नैकरी को तय सीमा से पहले ही छोड़ दिया था। एक तरफ जहां देश में बेरोजगारी का ग्राफ लगातार बढ़ता जा रहा है, तो वहीं सेना में शामिल ये युवा ऐसा कदम क्यों उठा रहे हैं? ये ऐसे सवाल हैं, जिनका जवाब भारतीय सेना सहित विशेषज्ञ करियर काउंसलर भी तलाश कर रहे।

कई बार ऐसा भी होता हैं की परिवार की खातिर लोग सेना में भारती हो जाते है पर हकीकत में उनकी रूचि नहीं होती हैं। रक्षामंत्री एके  एटंनी के संसद में दिए बयान के अनुसार 2011 में 10 हजार 315 जवानों ने फौज से नाता तोड़ लिया, जबकि 2010 और 2009 में यह  संख्या 7499 और 7249 थी। रक्षामंत्री ने इस पर लॉजिक यह हैं की सेना में पहले से ज्यादा लोग अब पढें लिखे आने लगे हैं। इसलिए जब वो 35 साल के हो जाते है तो आपने अच्छे भविष्य के लिए सेना की नौकरी छोड़ देते हैं।

Share This Post