Breaking News:

आधे से ज्यादा डॉक्टर झोला छाप….

नई दिल्ली : विश्व स्वास्थ्य संगठन ने एक रिपोर्ट में यह खुलासा किया हैं कि देश के 57 प्रतिशत से ज्यादा डॉक्टरों के पास मेडिकल डिग्री नहीं हैं और 31 फीसदी ऐसे डॉक्टर है जो खुद को एलोपैथिक डॉक्टर कहते हैं परन्तु एजुकेशन के नाम पर 12वी पास ही हैं और लोगो का ट्रीटमेंट कर रहे है। बता दे की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि विलेज इंडिया में पांच डॉक्टर में से एक डॉक्टर ही ट्रीटमेंट के लिए उपयुक्त डिग्री या क्वालिफिकेशन रखता है। भारतीय चिकित्सा परिषद (एमसीआई) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इस रिपोर्ट पर कहा कि झोलाछाप डॉक्टरों पर कार्रवाई का जिम्मा
राज्य की चिकित्सा परिषदों पर है और उन्हें ही उस पर कार्रवाई करनी चाहिये। बता दें की एमसीआई के अनुसार, देश में नौ लाख पंजीकृत डॉक्टर हैं। डॉक्टर गिरीश त्यागी जो की दिल्ली मेडिकल काउंसिल में है, उन्होंने कहा कि गत वर्ष 200 अपात्र मेडिकल प्रैक्टिशनर्स के खिलाफ उन्होंने केस दर्ज कराकर कार्रवाई की थी।

राष्ट्रीय स्तर पर एलोपैथिक, आयुर्वेदिक, यूनानी और होम्योपैथिक डॉक्टरों का आंकड़ा एक लाख की आबादी पर 80 और नर्सों का 61 रहा था। सुप्रीम कोर्ट ने अब यह फैसला लिया हैं कि अन्य पद्धतियों से इलाज करने वाले एलोपैथिक दवाओं से उपचार नहीं कर सकते। साथ ही आपको बता दे की हाल ही में एमसीआई ने 57 फीसदी मेडिकल प्रैक्टिशनर्स के पास एमबीबीएस या बीडीएस की डिग्री के आंकड़े  न होने की पुष्टि करने से माना कर दिया हैं। उनका यह कहना है कि वर्तमान समय में स्थितियां काफी बदल गई हैं।

स्वास्थ्य सेवाओं सम्बन्धी टारगेट को पूरा करने में स्वास्थ्य विशेषज्ञों की कमी भी एक बड़ी चुनोती हैं। वर्तमान स्थिति को देखते हुए देश में लगभग सात लाख डॉक्टरों की आवश्यकता है। परन्तु हमारे देश में सिर्फ 30 हजार डॉक्टर विश्वविद्यालयों से पढ़ाई पूरी कर बाहर आते हैं। जिस कारण इस अंतर को पूरा करने में बहुत मुश्किल दिखाई पढ़ती है, जो हमारे देश क लिए चिंता का विषय हैं। स्वास्थ्य सेवाओं के मामले में वैश्विक लक्ष्यों को पाने की राह में स्वास्थ्य विशेषज्ञों की कमी बड़ी चुनौती बनकर उभरी है। रिपोर्ट के अनुसार, देश वर्तमान स्थिति को देखते हुए सात लाख और डॉक्टरों की जरूरत है। लेकिन हर साल देश में सिर्फ 30 हजार डॉक्टर विश्वविद्यालयों से पढ़ाई पूरी कर बाहर आते हैं। इसकी भरपाई करना एक चिंता का विषय बना हुआ है।

Share This Post