कॉन्वेंट के तर्ज पर पढ़ाई, शासन के ये निर्देश बढ़ाएंगे बौद्धिक विकास….

यूपी बोर्ड में अब होगी कॉन्वेंट स्कूल जैसी पढ़ाई। इसके साथ ही कई प्रकार के शैक्षिक कार्यक्रम और छात्रों के बौद्धिक विकास की प्रतियोगिताएं आयोजित कराई जाएंगी। इस प्रतियोगिता में शिक्षकों की लापरवाही बाधक न बने इसलिए CCTV और बायोमेट्रिक मशीनें लगाई जाएंगी।
 
बता दें कि कॉन्वेंट स्कूलों में बच्चों की शिक्षा के साथ साथ बहुत सी बातों पर ध्यान रखा जाता हैं। जैसे की सुबह की प्राथना के समय बच्चों को समाचार पत्र को पढ़ कर डेली अपडेट से अवगत कराया जाता हैं। इसके साथ ही महापुरुषों की जीवनशेली के बार में जानकारी दी जाती हैं। वहीं गीत, संगीत, चुटकुले और कहानियों से उनकी प्रतिभा में निखार लाने का प्रयास किया जाता है।

इसके अलावा गीत, संगीत, चुटकुले और कहानियों जैसे बहुत सी गतिविधियां होती रहती है, जो उनकी प्रतिभा में निखार लाने का प्रयास करती है। इसी वजह से पेरेंट्स आपने बच्चों का एडमिशन मोटी फीस दें कर कराते हैं। वहीं, अभिभावकों को लुभाने के लिए अब यूपी बोर्ड से मान्यता प्राप्त सरकारी, गैर सरकारी और अनुदानित इंटर कॉलेजों में इस प्रकार की गतिविधियां चलाई जाएंगी।   

माध्यमिक शिक्षा निदेशक शैक्षिक कलेंडर में यह निर्देश जारी किए हैं। राजकीय विद्यालय में यह व्यवस्था आकस्मिक मद, बॉयज फंड  से, अनुदानित कालेजों में विकास मंद से और वित्त विहीन विद्यालयों में प्रबंध समिति को अपने निजी स्रोतों से कराने के निर्देश दिए है।

इस बारे में संयुक्त शिक्षा के निर्देशक मनोज कुमार द्विवेदी का कहना है कि जिला विद्यालय निरीक्षक विद्यालयों में इस आदेश का  पालन कराने के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही कहा गया है कि निर्देशों का पालन हुआ या नहीं इसकी जांच कर रिपोर्ट देने को भी कहा  गया है।

Share This Post